आईपीएस अधिकारी के साथ वायरल ऑडियो वाली महिला निकली फर्जी

एनटी न्यूज / डेस्क

यूपी के एक आईपीएस अधिकारी से जुडी बड़ी खबर आ रही है. प्रदेश में तैनात एक आईपीएस अधिकारी का गाजियाबाद की एक महिला से कथित बातचीत का ऑडियो वायरल हो रहा है. असल में ऑडियो वाली महिला पर कई फर्जीवाड़े के मामले दर्ज हैं.

साध्वी प्रज्ञा का ईलाज करने वाले डॉ. एस एस राजपूत ने बतायी कैंसर ठीक होने की असली वजह

इससे पहले भी कई मामले दर्ज हैं

महिला का इतिहास खंगाला गया तो कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए और कथित ऑडियो क्लिप की सारी सच्चाई भी सामने आ गई. जानकारी के अनुसार संबंधित महिला पर पूर्व में भी कई फर्जीवाड़े के आरोप लग चुके हैं.

अलर्टः अगले दो दिन के भीतर आ सकता है तूफान, मौसम लेगा करवट

पुलिस अधिकारियों को ही फंसाती थी चंगुल में

महिला पर आरोप है कि वो सबसे पहले गाजियाबाद और नोएडा में आने वाले कप्तानों का बुके देकर स्वागत करती है और फिर धीरे-धीरे उनसे बात करना करती है. उसके बाद उनको अपने चुंगल में फंसाकर ब्लैकमेल करती है. इतना ही नहीं महिला का फेसबुक पेज देखा जाय तो महिला कई आईपीएस अधिकारियों की फोटो डालकर प्यार का इजहार करती नजर आ रही है. आरोपी महिला के खिलाफ कई आरोपों में गाजियाबाद के कई थानों में केस दर्ज हैं.

यूपी के धौरहरा सीट पर आम आदमी पार्टी ने किया गटबंधन का समर्थमन

और भी कई फर्जीवाड़े कर फंसाती है नागरिकों को

आपको बता दें कि ठग महिला के दूसरे फर्जीवाड़े की शिकायत थाना साहिबाबाद में दर्ज है. इस ठग महिला पर आरोप है कि उसने अपना पासपोर्ट बनवाने के लिए फर्जी दस्तावेजों का इस्तेमाल किया और उसने अपनी जन्म तिथि को 1979 की  जगह 1989 दिखाया है. साथ ही संबंधित महिला पर ये भी आरोप है कि उसने किसी अभिनव कुमार नाम के व्यक्ति की शैक्षणिक प्रमाण पत्र से छेड़छाड़ कर एक सक्रिय गैंग के साथ मिलकर उसको अपने प्रमाण पत्र दिखाकर पासपोर्ट बनवा लिया. इस पर पीड़ित ने मुकदमा भी दर्ज कराया है.

6 महीने से ये बुजुर्ग था कमरे में बंद, रात में सुनायी देती थी रोने की आवाज

इस तरह में ये सवाल उठ रहे हैं

सूत्रों की मानें तो कुछ आईपीएस अफसरों की भी सरपरस्ती उस महिला को प्राप्त है. ऐसे में सवाल यह भी उठता है कि इस तरह से आये दिन एक के बाद एक आईपीएस ऑफिसर पर जिस तरह से कथित आरोप लग रहे हैं. उससे समाज में क्या छवि बनेगी और आईपीएस एसोसिएशन आखिर इसपर क्यों मौन है? यह बड़ा सवाल है.