फरियादी बनकर पहुंचता है यह आईपीएस अफसर, आप भी जानिए

- in अपना यूपी

एनटी न्यूज / बदायूं

बहुत कम अफसर हैं जो अब जमीनी पड़ताल पर खुद निकलते हैं. वरना आराम तलब अफसर रात होते ही कहीं निकलना पसन्द नहीं करते हैं. आज हम आपको एक ऐसे आईपीएस से रूबरू करवाएंगे जो आज भी जमीनी हकीकत को परखने फरियादी बनकर कभी भी, किसी भी समय और कहीं भी पहुंच सकते हैं.

मध्यरात्रि में थाने की समीक्षा करने पहुंचे आइपीएस अशोक त्रिपाठी

भारत के सबसे ऊंचे मतदान केंद्र टशीगंग के बारे में कितना जानते हैं आप!

फरियादी बन सूचना देने पहुंचे थाने

12 मार्च की रात को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद बदायूं अशोक कुमार त्रिपाठी फरियादी बनकर थाना मूसाझाग पहुंच गए. थाने पर मौजूद रात्रि अधिकारी को अपनी मोटर साइकिल पल्सर छीन लेने की सूचना दी.

जूते की अभिलाषा [व्यंग्य]: अलंकार रस्तोगी

कार्यनिष्ठा देख हुए प्रभावित

सूचना को गंभीरता से लेते हुए रात्रि अधिकारी उप निरीक्षक सचिन कुमार ने वायरलेस से चीता मोबाइल को निर्देशित किया कि चेकिंग अभियान को सतर्क किया जाय. इससे उप निरीक्षक सचिन कुमार के कार्य के प्रति जिम्मेदाराना देखते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बदायूं अशोक कुमार त्रिपाठी ने उन्हें 2500 रुपए नकद पुरस्कार स्वरूप दिए.

आम चुनाव की तारीखों का ऐलान, आपके यहां इस दिन पड़ेंगे वोट

इटावा को अपनी सेवा देकर दिलवाया था प्रथम स्थान

एसएसपी इटावा रहते हुए अशोक त्रिपाठी को प्रदेश में पहला स्थान मिला था. इनके नेतृत्व के चलते आइजीआरएस निस्तारण में पांच महीनों से इटावा पूरे प्रदेश में अव्वल. इसीलिए शासन द्वारा जारी पूरे प्रदेश की रैंकिंग में इटावा के एसएसपी को प्रथम स्थान दिया गया.

राहुल गांधी पर के. विक्रमराव की त्वरित टिप्पणी