काला हिरण केस मे बढ़ सकती है अन्य कलाकारों की मुश्किलें

- in मनोरंजन

एनटी//न्यूज़ डेस्क//लखनऊ-

काला हिरण शिकार मामले पर हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने सलमान खान को पाँच साल की सज़ा सुनते हुए बाकी साथियों को राहत दी थी।

salmaan kahn

लेकिन अब खबर आ रही है कि राजस्थान सरकार सैफ अली खान, नीलम और सोनाली बेंद्रे को बरी करने के फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट में अपील करने पर विचार कर रही है ।

1998 का है मामला-

मामला 1998 का है जब राजस्थान के जैसलेपुर मे सूरज बड़जात्या की फिल्म हम साथ साथ है की शूटिंग चल रही थी।

salmaan kahn

आरोप है कि 1 अक्टूबर 1998 की रात झोदपुर ज़िले के कांकणीगाँव  के पास ही सलमान खान और फिल्म से जुड़े अन्य कलाकारों ने यहाँ काले हिरण का शिकार किया सलमान खान पर अवैध हथियार रखने और इस्तेमाल करने का आरोप था।

वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट का उल्लंघन-

सलमान खान पर जिस काला हिरण के शिकार का आरोप है वह वाइल्ड लाइफ एक्ट के तहत संरक्षित है काला हिरण भारत पाकिस्तान और नेपाल मे पाये जाते है 20वी सदी में अत्यधिक शिकार के कारण ये प्रजाति विलुप्ति की कगार पर पहुच गयी है ।

मामला 1998 का है जब राजस्थान के जैसलेपुर मे सूरज बड़जात्या की फिल्म हम साथ साथ है की शूटिंग चल रही थी

ANI के ट्वीट के मुताबिक प्रदेश सरकार राजस्थान हाई कोर्ट में काला हिरण शिकार मामले को लेकर सैफ अली खान, सोनाली बेंद्रे, तबु और नीलम कोठारी के खिलाफ अपील करने की तैयारी में है।

अप्रैल में सुनाई थी सलमान को सज़ा-

बता दें कि इस साल 5 अप्रैल को जोधपुर सेशन कोर्ट के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट देवकुमार खत्री ने करीब दो दशक पुराने काला हिरण शिकार प्रकरण में सलमान खान को दोषी करार देते हुए पांच साल की सजा सुनाई थी। इसके साथ ही सलमान पर 10 हजार रूपए का जुर्माना भी लगाया था। वहीं बाकी आरोपियों सैफ अली खान, नीलम, सोनाली, तब्बू और दुष्यंत सिंह को बरी कर दिया गया।

मामला 1998 का है जब राजस्थान के जैसलेपुर मे सूरज बड़जात्या की फिल्म हम साथ साथ है की शूटिंग चल रही थी

सलमान ने निचली अदालत के इस फैसले के विरुद्ध जिला व सेशन कोर्ट में अपील की थी। 7 अप्रैल को जिला एवं सेशन कोर्ट ने सलमान के खिलाफ सुनाई गई निचली अदालत की सजा पर रोक लगाते हुए उन्हें सशर्त जमानत दे दी थी। फिलहाल सलमान अपनी आने वाली फिल्मों की शूटिंग में बिजी हैं। वहीं सोनाली बेंद्रे कैंसर का इलाज करवा रही हैं।

इन्हे भी पढ़ें-

एक ऐसा आईपीएस जिसके नाम से नक्सलियों के पसीने छूट जाते हैं

पॉकेटमार होने के शक मे बस ड्राइवर ने महिला को पीटा

जन्मदिन स्पेशल : आयुष्मान को आयुष्मान भवः

नो वन इज रिस्पॉन्सिबल फॉर माई डेथ