SC का बड़ा फैसला : दहेज उत्पीड़न पर अब हो सकेगी पति की तुरंत गिरफ्तारी

एनटी//न्यूज़ डेस्क//लखनऊ-

दहेज

नया फैसला सुनाने वाली पीठ में चीफ़ जस्टिस दीपक मिश्रा जस्टिस ए.एम खानविलकर और जस्टिस डी.वाई. चंद्रचूड़ में शामिल थे.

सेफगार्ड को खत्म किया…

दहेज उत्पीड़नों के मामले में शुक्रवार को सूप्रीम कोर्ट की ओर से बड़ा फैसला दिया गया है. सर्वोच्च न्यायालय ने अपने एक पुराने फैसले में बदलाव करते हुए पति के परिवार को मिलने वाले सेफगार्ड को खत्म कर दिया है. यानी अब दहेज उत्पीड़न के मामले में पति की तुरंत गिरफ्तारी हो पाएगी.

परिवार कल्याण कमेटी की आवश्यकता नहीं होगी…

दहेज उत्पीड़न कानून (498 A) पर अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अब शिकायत की सुनवाई के लिए किसी परिवार कल्याण कमेटी की आवश्यकता नहीं होगी. कोर्ट का कहना है कि पीड़ित महिला की सुरक्षा के लिए इस प्रकार का निर्णय काफी जरूरी है. हालांकि, पति के पास अग्रिम ज़मानत लेने का ऑप्शन बरकरार रहेगा.

दहेज

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि समाज में महिला को बराबर हक मिलना चाहिए इसमें कोई दो राय नहीं है, साथ ही हम ऐसा भी निर्णय नहीं दे सकते हैं कि पुरुष पर किसी तरह का गलत असर पड़े.

गिरफ्तारी पूर्व या अग्रिमजमानत के प्रावधान को संरक्षित किया है…

न्यायालय ने दो न्यायाधीशों वाली पीठ के फैसले में बदलाव करते हुए कहा कि दंड कानूनों में मौजूद खामी को संवैधानिक रूप से भरने की अदालतों के पास कोई गुंजाइश नहीं है. उन्होंने कहा कि हमने दहेज प्रताड़ना के मामलों में गिरफ्तारी पूर्व या अग्रिमजमानत के प्रावधान को संरक्षित किया है.

दहेज

बता दें कि 2017 में सुप्रीम कोर्ट की दो जजों की बेंच ने आदेश दिया था कि दहेज उत्पीड़न के मामले में पति या उसके परिवार की सीधी गिरफ्तारी नहीं हो सकती है. हालांकि, चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने इसपर असहमति व्यक्त की थी.

इन्हे भी पढे:

साड़ी बिंदी पहनकर गौतम गंभीर पहुंचे उद्घाटन समारोह : वजह जानकार सब हैरान

सऊदी अरब मे अब महिलायें हवाई जहाज भी उड़ायेंगी

गणेश चतुर्थी :घर में पधारो गजानन जी मेरे घर में पधारो

सऊदी अरब मे अब महिलायें हवाई जहाज भी उड़ायेंगी

हिन्दी दिवस विशेष : तटबंधों को तोड़ती हिंदी